होली : रंग और दिशाएँ

[एक एब्‍सट्रैक्‍ट पेंटिंग]

जँगले जालियाँ,
स्‍तंभ
               धूप के      संगमर्मर के,
ठोस तम के।

                कँटीले तार हैं
                       गुलाब बाड़ियाँ।

दूर से आती हुई
एक चौपड़ की सड़क
                  अंतस् में
                  खोयी जा रही।

                  धूप केसर आरसी
                  …बाँहें।

आँखें अनझिप
             खुलीं
                      वक्ष में।

             स्‍तन
           पुलक बन
उठते और
           मुँदते।
           पीले चाँद
खिड़कियाँ
आत्‍मा की।

गुलाल :
          धूल में
                   फैली
                          सुबहें।

                   मुख :
          सूर्य के टुकड़े
सघन घन में खुले-से,
या ढके
          मौन,
अथवा
प्रखर
          किरणों से।

जल
आईना।
          सड़कें
                  विविध वर्ण :
                           बहुत गहरी।

                  पाट चारों ओर
                           दर्पण –
                  समय के अगणित चरण को।
घूमता जाता हुआ-सा कहीं, चारों ओर
                                                 वह

                 दिशाओं का हमारा
                 अनन्‍त
                 दर्पण।

See also  घास की हरी पत्तियों में | एकांत श्रीवास्तव


2

चौखटे
          द्वार
                   खिड़कियाँ :
सघन
          पर्दे
          गगन के-से :
हमीं हैं वो
हिल रहे हैं
एक विस्‍मय से :
          अलग
          हर एक
          अपने आप :
(हँस रहे हैं
          चौखटे द्वार
          खिड़कियाँ जँगले
                      हम आप।)
केश
          लहरते हैं दूर तक
                                 हवा में : 
थिरकती है रात :
हम खो गये हैं
                  अलग-अलग
                  हरेक।

See also  ध्वनि की गति | अंकिता आनंद


3

कई धाराएँ
          खड़ी हैं स्‍तंभवत्
          गति में :
छुआ उनको,
                   गये।


कई दृश्‍य
          मूर्त द्वापर
                           और सतयुग
          झाँकते हैं हमें
          मध्‍य युग से
                         खिलखिलाकर
          माँगते हैं हमे :
हमने सर निकाला खि‍ड़कियों से
          और हम
                         गये।


सौंदर्य
प्रकाश है।


पर्व
प्रकाश है
अपना।
हम मिल नहीं सकते :
                               मिले कि
                    खोये गये।
आँच हैं रंग :
तोड़ना उनका
                   बुझाना है
        कहीं अपनी चेतना को।
लपट
         फूल हैं,
                कोमल
                बर्फ से :
हृदय से उनको लगाना
सींझ देना है
          वसंत बयार को
          साँस में :
वो हृदय हैं स्‍वयं।

See also  सितुही भर समय | प्रमोद कुमार तिवारी

X X

एक ही ऋतु हम
जी सकेंगे,
एक ही सिल बर्फ की
           धो सकेंगे
प्राण्‍ अपने।
           (कौन कहता है ?)

यहीं सब कुछ है।
इसी ऋतु में
इसी युग में
इसी
                 हम
                          में।

(1958)

Leave a Reply

अलग-अलग पोज़ में अवनीत कौर ने करवाया कातिलाना फोटोशूट टीवी की नागिन सुरभि ज्योति ने डीप नेक ब्लैक ड्रेस में बरपया कहर अनन्या पांडे की इन PHOTOS को देख दीवाने हुए नेटिजेंस उर्फी जावेद के बोल्ड Photoshoot ने फिर मचाया बवाल अनन्या पांडे को पिंक ड्रेस में देख गहराइयों में डूबे फैंस Rashmi Desai ने ट्रेडिशनल लुक की तस्वीरों से नहीं हटेगी किसी की नजर ‘Anupamaa’ ब्लू गाउन में, Rupali Ganguly Pics Farhan-Shibani Dandekar Wedding: शुरू हुई हल्दी सेरेमनी Berlin Film Festival: आलिया ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ स्टाइल में PICS अवनीत कौर प्रिंटेड ड्रेस में, बहुत खूबसूरत लग रही हैं Palak Tiwari ने OPEN ब्लेजर में कराया BOLD फोटोशूट साड़ी के साथ फ्लावर प्रिंटेड ब्लाउज़ में आलिया भट्ट
%d bloggers like this: