सहयात्री

हम भी सहयात्री हैं
उसी जलयान के
जिस पर सवार होकर करने चले हो तुम
विश्व की परिक्रमा,
गहरे समुद्र के बीच
डूबने का कोई अवसर आने पर

क्या भिन्न-भिन्न होंगे मित्र!
हमारी-तुम्हारी मृत्यु के अनुभव?
क्या हमारे अनुभवों की भिन्नता
सिर्फ इसलिए होगी कि
हम एक गरीब देश के हैं
खाते-पीते और बरबाद नहीं करते तुम्हारे जितना भोजन
और तुम एक सुविधा-संपन्न अमीर देश से हो
जहाँ हर सब्जी, फल, फूल,
यहाँ तक कि इनसानों का आकार भी होता है
हमारे देश की तुलना में बड़ा-बड़ा?

इस समुद्री यात्रा पर
निकले तो हैं हम
अपनी मित्रता की नई मिसालें गाँठने
पर पता नहीं मुझे कि
जहाज के डेक पर बैठकर
पानी के अपार विस्तार के आगे
शून्य में आँखे गाड़
धरती के जिस निरापद छोर को
मैं ढूँढ़ता रहता हूँ सुबह-शाम
उसी को तुम भी खोजते रहते हो या नहीं
या फिर मेरे साथ इस डेक पर बैठने के बावजूद
तुम्हारा मकसद आज भी रहता है वही
ढूँढ़ना अपने लिए हमसे अलग एक नई दुनिया कोलंबस की तरह!

See also  याद कैलेंडर | प्रतिभा कटियारी

हम आज भी
अपनी सदियों पुरानी बस्ती में
जीने के लिए मजबूर हैं
इतिहास की अनेकों उपपत्तियों के साथ
किंतु तुमने तो अभी-अभी बसाई है
अटलांटिक पार की अपनी यह नई बस्ती!
अपने स्वार्थ में तुमने एक बार भी पीछे मुड़कर नहीं देखा कि
तुम्हारी इस नई बस्ती के ऐशो-आराम की कीमत
कहीं कोई और तो नहीं चुका रहा इस धरती पर!
क्योटो, दोहा, जेनेवा आदि में हुई चर्चाओं के बाद के दौर की
तुम्हारी दलीलों को सुनकर तो
अब हमारा भरोसा ही उठता जा रहा है
तुम्हारी कही गई किसी भी बात पर से मित्र!

अपने तिजारती फायदों के लिए
खूब बाँध दिए हैं तुमने
हम जैसों के हाथ-पाँव
हम जैसे गरीबों की जेबों पर तो
बराबर कब्जा जमाए रखना चाहते हो तुम
किंतु अपने बाजार में किसी गरीब को
घुसने का मौका देना तक तुम्हें मंजूर नहीं
इस धरती को जगह-जगह से घाव देकर
अब उन्हें भरने वाले ग्राफ्ट भी
हम गरीबों की देह से ही काटकर निकालना चाहते हो तुम!

See also  बधिया | प्रमोद कुमार तिवारी

इसलिए आज
इस लंबी समुद्री यात्रा के दौर में
कैसे विश्वास करूँ कि
भुलाकर यह सारी आपाधापी
तुम भी सोचना शुरू कर दोगे हमारी ही तरह
इस समूची धरती के बारे में
हमारे मन से अपने मन को एकाकार करके!

मित्र (?)!
और भी बहुत से देशों के
सुविधा-संपन्न मित्रों के साथ
लंबी समुद्री यात्राएँ की हैं हमने
विजन महासागरों के बीच से गुजरते हुए
किंतु उन यात्राओं के दौरान
संकट के किसी क्षण में
लड़खड़ाते हुए जहाज के डेक पर बैठकर
उन मित्रों की आँखों में आँखें डाल
मौत की भयावह आशंका का सामना करने के दौरान
हमेशा यह अहसास होता रहता था कि
कि यदि मौत सचमुच ही आ गई हमें निगलने तो
उसके भी सहयात्री बन जाएँगे हम साहस के साथ
अंतिम क्षणों तक एक-दूसरे को बचाने का संघर्ष करते हुए!

See also  प्रणय | ए अरविंदाक्षन

वैसा ही कोई भरोसा
इस समुद्री यात्रा के कठिन दौर में
तुम्हारे प्रति क्यों नहीं पैदा होता मेरे मन में
वाशिंगटन से जलयान पर आए मेरे प्रिय सहयात्री?

Leave a Reply

अलग-अलग पोज़ में अवनीत कौर ने करवाया कातिलाना फोटोशूट टीवी की नागिन सुरभि ज्योति ने डीप नेक ब्लैक ड्रेस में बरपया कहर अनन्या पांडे की इन PHOTOS को देख दीवाने हुए नेटिजेंस उर्फी जावेद के बोल्ड Photoshoot ने फिर मचाया बवाल अनन्या पांडे को पिंक ड्रेस में देख गहराइयों में डूबे फैंस Rashmi Desai ने ट्रेडिशनल लुक की तस्वीरों से नहीं हटेगी किसी की नजर ‘Anupamaa’ ब्लू गाउन में, Rupali Ganguly Pics Farhan-Shibani Dandekar Wedding: शुरू हुई हल्दी सेरेमनी Berlin Film Festival: आलिया ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ स्टाइल में PICS अवनीत कौर प्रिंटेड ड्रेस में, बहुत खूबसूरत लग रही हैं Palak Tiwari ने OPEN ब्लेजर में कराया BOLD फोटोशूट साड़ी के साथ फ्लावर प्रिंटेड ब्लाउज़ में आलिया भट्ट
%d bloggers like this: