प्यार मेरे लिए सिर्फ एक उम्मीद का नाम है
प्यार मेरे लिए सिर्फ एक उम्मीद का नाम है

हर बार बढ़ जाती है
मेरी उम्मीद
तुमसे मिलने के बाद
कि थोड़े दिन और जी पाऊँगा
इस दुनिया में
थोड़ी रोशनी हो सकेगी
इस नीम अँधेरे में
थोड़ी हवा बहेगी
इस बंद कोठरी में
कोई धूप खिलेगी
कोई बारिश होगी
इस मौसम में

मिलती अगर मुझे
उम्मीद किसी और चीज से
तो मैं तुम्हें नहीं करता
इस तरह नाहक परेशान
नहीं कहता तुम आओ, अभी इसी वक्त
मुझसे मिलने या मैं ही आता हूँ
किसी दिन तुम्हारे घर कभी
पर तुमने मिलना छोड़ दिया
मैं मिलने की उम्मीद के लिए ही
अब तक जी रहा हूँ
नहीं तो कब का मर गया होता

See also  जड़ें | रति सक्सेना

मुझे उम्मीद है
तुम एक दिन जरूर मिलोगी
इतने बड़े शहर में
कहीं न कहीं
किसी मोड़ पे
किसी न किसी शक्ल में
किसी आवाज में
गुस्से में नाक फुलाए
चेहरा तमतमाए
कोई उम्मीद थी
मेरे भीतर अब तक
नहीं तो मैं
इतने साल कैसे जी गया
तुम्हारे बगैर
ना-उम्मीदी के बीच

See also  प्रयागराज एक्सप्रेस का दुख

क्या वह तुम थी
मेरी साँस में
घुली हुई प्राणवायु की तरह
क्या वह तुम्हारी परछाई थी
या आवाज
या गंध
या स्पर्श
या सिर्फ एक खयाल
उम्मीद हमेशा
खयाल में ही छिपी होती है
पर जब भी
मेरी आँखों में गिरती हैं
दो बूँदें
उनमें भी एक उम्मीद
छिपी होती है

See also  भूले हुओं का गीत | गिरिजा कुमार माथुर

किसी दिन तुम जरूर आओगी
कहोगी
भूल जाओ पुरानी बातें
मैं ही हूँ तुम्हारी असली दोस्त
जिसे तुम जीवन भर इतना दुश्मन समझते रहे
इस दोस्त को जानो
और खुद को पहचानो
तभी तुम कहोगे
प्यार, मेरे लिए सिर्फ एक उम्मीद का नाम है…

Leave a comment

Leave a Reply