कहाँ समाए मैलापन
कहाँ समाए मैलापन

नदियों का मीठा पानी
समुद्र में समाकर-खारा
नदियाँ – समुद्र-बीच
मैली होती गईं

दुनिया अपना मैला
साफ करते-करते
नदियों को मैला करती रही

हम सब
सूरीनाम के होते हुए भी
सरनामी नहीं
भारतीय हैं –

देश, धर्म, जाति के
मैले से हम-सब सने हुए हैं
फिर चाहे
जिस जाति और धर्म के हों
मतभेद हमारा मैला है

See also  प्रक्रिया | नरेंद्र जैन

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *