जंगल के झरने की धार
जंगल के झरने की धार

जंगल के झरने की धार
चाहा भर लूँ बाँह पसार

घने दरख़्तों की सिसकार
और नदी की एक नकार

बूँद नदी सागर संसार
पानी तेरे रूप हज़ार

वा कर आफ़ाक़ी आगोश
देख तो लूँ क्या है उस पार

दहलीज़ों-दहलीज़ों तक
चलना थकना कितनी बार

दूर उफुक़ से फिर उभरी
कोमल काजल सी तलवार

See also  विश्वग्राम की अगम अंधियारी रात | दिनेश कुशवाह

जंगल में क्यूँ याद आए
अपने आँगन के असरार

Leave a comment

Leave a Reply