Tushar Dhawal
Tushar Dhawal

( मरीन ड्राइव मुंबई)

सँझियारे पानी के कैमरे से 
सेल्फी लेता 
तंदूरी सूरज 
मुस्कान टिकाये रखने की जतन में 
थोड़ा ‘लुक-कौन्शियस’ हुआ है 
तमाशाई कोई मेघ 
जाते जाते ठहर गया है 
उसे देखकर 
हवा ने हौले से खींचा है उसे, 
“अब चल्लोना !”

थोड़ी हरकत हुई वहाँ।

सड़क से गाड़ियों का धुआँ 
अपने संग धूल भी ले उड़ा 
आसमानी पिकनिक पर 
जहाँ 
उड़ती मैना की टोली ने छेड़ा उन्हें 
लजाई धूलकणों का माँगटीका 
सुनहरी छटा में दमक उठा

See also  शायद मुझसे ही मिलना था | जयकृष्ण राय तुषार

मकानों पर उग आए मोबाइल टावर्स पर 
चढ़कर एक पतंग टाँग दी जाए 
कुछ कंदील रोशनी के लटका दिये जाएँ 
पटाखे छोड़े जाएँ पैराशूट में लहराते हुए 
अभी यही खयाल आया है 
उस जोड़े को 
जिसके 
चुंबन में सम्मोहित होंठ 
पिघलते मक्खन पर 
नरम शहद का स्वाद बन रहे हैं

See also  मिट्टी का बर्तन

हिंसा हवस होड़ की 
अपच से अनसाई 
उकताई उबकाई से 
उबरने को आतुर दुनिया 
दृश्य गंध स्पर्श स्वाद स्वप्न के पंचकर्म से 
कायाकल्प की ललक लिए 
ऐसी ही मिलती है

जबकि 
देखा जाए तो 
हर एक दृश्य 
हर एक चेहरे के पीछे 
भीषण घमासान 
विदारक हाहाकार 
मचा होता है।

जीवन दर-रोज़ का कारोबार नहीं 
प्रतिबद्धता बन जाता है, इसी जगह।

Leave a comment

Leave a Reply