Tushar Dhawal
Tushar Dhawal

इस बीच क्या कुछ नहीं उग आया 
दो देहों के बीच 
झाड़ झंखाड़ खर पतवार जंगली बेलें नाज़ुक लताएँ 
आदिम दीवारों से निकली गुप्त गुफाएँ अँधेरी घाटियों में 
भौंचक्की दिशाओं में सीढ़ियाँ उभर आईं 
कुछ ढूह कुंठाओं के टिके रहे 
जीभ पर अब फीके पड़े इन गाढ़े अँधेरों में

ज़हर है सच 
पर यही है

See also  दुखों की छाया | त्रिलोचन

कितनी कितनी कल्पनाएँ हैं 
गोता खाती पतंगों की डोर से लटकी हुई 
गहन घाटियाँ हैं अंतर की 
दो देहों के बीच

इस बीच दो देहों के बीच कितना समय उग आया है 
यात्राएँ बदल गईं संदर्भ बदल गए अपने होने के 
भोलेपन की शिनाख़्त मुश्किल रही शातिर समय में 
जीवन बुलबुलों सा उगता फूटता मिटता रहा 
मृत्यु के पार जो भी हुआ 
आकलन था 
कुछ दिलासाओं का कुछ भय का 
कुछ नकेलों का इन पालतू करोड़ों पर 
विद्रोह से डरी सत्ताओं का धर्मशास्त्र 
दो देहों के बीच नकली सपने भरता रहा 
रक्तिम अँधेरों में 
कुछ लिपियों के गहरे दंश लगे हैं अचेतन पर 
ज़हर है सच 
पर यही है 
नए असंतोष की बेगानी आब-ओ-हवा में 
कुछ भोली और सहज होनी थी कई कल्पनाएँ

See also  हमारी अर्थी शाही हो नहीं सकती | अनुज लुगुन

दो देहों के बीच उस आदिम माँ ने 
सहेज कर रखा था अपने प्रथम डिंब में 
एक स्वप्न 
इन फीके गाढ़े अँधेरों में फिर 
वही स्वप्न चुपचाप उग रहा है 
दो देहों के बीच

Leave a comment

Leave a Reply