हर चीज के भीतर एक | बोरीस पास्तरनाक
हर चीज के भीतर एक | बोरीस पास्तरनाक

हर चीज के भीतर एक | बोरीस पास्तरनाक

हर चीज के भीतर एक | बोरीस पास्तरनाक

हर चीज के भीतर तक
पहुँचना चाहता हूँ मैं।
पहुँचना चाहता हूँ उनके सारतत्‍व तक
काम में, राहों की खोज में
हृदय की उथल-पुथल में।

पहुँचना चाहता हूँ
बीते दिनों की सच्‍चाई तक,
उनके कारण और मूल तक,
उनके आधार और मर्म तक।

See also  समानता | अभिमन्यु अनत

नियति ओर घटनाओं का
हर समय में पकड़े रखना चाहता हूँ सूत्र,
चाहता हूँ जीना, सोचना, अनुभव करना, प्रेम करना,
उद्घाटित करना नये-नये सत्‍यों को।

काश संभव होता
भले ही अंशत:
भावावेग के गुणों पर
मात्र आठ पंक्तियों में।

लिखना अराजकता, पाप, पलायन
और आखेट के बारे में,
आकस्मिक घटनाओं, अचंभों,
कुहनियों और हथेलियों के स्‍पर्श के बारे में।

See also  लद्दाख

मैं ढूँढ़ निकालता उनके नियम
और उनका उद्गम
और अुहराता रहता
उनके नामों के प्रथम अक्षर।

उद्यान की तरह मैं सजाता कविताएँ,
धमनियों के समस्‍त कंपन के साथ
उनके खिलते रहते मेपल लगातार
एक साथ, जी भरकर।

कविताओं में लाता गुलाबों के महक
और पुदीने का सत्‍त,
लाता चरागाहें, वलीक घास
और ठहाके गरजते बादलों के।

See also  असल बाजार में | अरविंद कुमार खेड़े

इसी तरह शोपां
अपनी रचना में
समेट लाये थे पार्क, उपवन और
समाधियों के आश्‍चर्य।

अर्जित गरिमा की यातना
और खुशी
तनी हुई प्रत्‍यंचा
सधे हुए धनुष की।

Leave a comment

Leave a Reply