आमने सामने
आमने सामने

वे सब आपस में किसी को नहीं जानते थे
इससे पहले कभी सपनों में भी नहीं मिले
और आज उस छत के नीचे इकट्ठा थे लोग

रोजमर्रा के कपड़ों में वह स्टेज पर आई
उसे एक कोरस प्रस्तुत करना था
दर्शकों से इस तरह बतियाने लगी जैसे कब से जानती हो
वह जैसे कथानक से बाहर निकल आई

See also  अनपढ़

लोगों को यह स्वाद नया लगा
पारंपरिक कोरस की जगह एक लड़की
बिना किसी बनाव श्रृंगार के सादे तरीके से गा रही थी
मंच पर उस लड़की से बातें करते हुए दर्शक

बहुत उत्तेजित महसूस कर रहे थे
नाटक का यह हाइ प्वाइंट था

ऐसे भी दृश्य आए
जहाँ संवादों की जगह चीखें डाल दी गईं थीं
ज्यादातर दर्शक संभ्रम में थे
कुछ खिखिया रहे थे कुछ मौन

See also  गीत तुम अब गुनगुनाओ | कृष्ण कुमार

इन वर्षों ने सिखाया था एक दूसरे से डरना
प्रार्थनागृहों के आगे लंबी कतारों में इंतजार
संभावनाओं और भविष्य के बारे में हताश रहना

उस खास क्षण वे मंच पर अपने कुनबे के साथ आए
जैसे इतिहास के रैंप पर कैटवाक कर रहे हों
हजारों लोगों ने चिल्लाकर उनका अभिनंदन किया
करोडों ने अपने टी वी सेट्स पर

See also  सलप का पेड़ | प्रीतिधारा सामल

जीवन में पहली बार लोगों को लग रहा था
इस बार तो जरूर कुछ फरक होगा
आने वाले दिनों के बारे में अनुमान नहीं था
नतीजों के बारे में कोई सवाल तक नहीं

Leave a comment

Leave a Reply