हवा में लहराता तिरंगा
पूछ रहा है मुझसे
आखिर कब तक
ढोऊँगा मैं
इन रंगों भार ?
कब तक फहराऊँगा मैं
यूँ ही निरर्थक ?
कब ? आखिर कब ?
समझोगे तुम
इन रंगों का महत्व ?

See also  मेरे गाँव का स्कूल उदास है | मनोज तिवारी

Leave a comment

Leave a Reply