स्पीड ब्रेकर | गोविंद सेन

स्पीड ब्रेकर | गोविंद सेन

स्पीड ब्रेकर | गोविंद सेन – Speed Breaker स्पीड ब्रेकर | गोविंद सेन हफ्ते-दो हफ्ते में कोई न कोई स्पीड ब्रेकर मिल ही जाता है। अमूमन सुबह घूमकर लौटने में मुझे सवा घंटा लगता है। लेकिन जब कोई स्पीड ब्रेकर मिल जाता है तो पंद्रह मिनट से लेकर आधे घंटे तक की देरी हो जाती … Read more

सुखदेव की सुबह | गोविंद सेन

सुखदेव की सुबह | गोविंद सेन

सुखदेव की सुबह | गोविंद सेन – Sukhadev Ki Subah सुखदेव की सुबह | गोविंद सेन सुखदेव सुबह पाँच बजे उठ जाते हैं। उनकी उम्र का काँटा पचास-पचपन के बीच कहीं अटका है। जब से उन्हें शुगर निकली है और डॉक्टर ने रोज घूमने की सलाह दी है, वे नियमित घूमने जाते हैं। सुबह घूमने … Read more

मसाण | गोविंद सेन

मसाण | गोविंद सेन

मसाण | गोविंद सेन – Masaan मसाण | गोविंद सेन रात के पता नहीं कितने बजे थे। पूरा गाँव सोया पड़ा था। सन्नाटे को चीरती हुई गाँव के किसी घर के आसपास से झाँझ-मिरदिंग बजने की आवाज आ रही थी। कोई मृत्यु गीत गाया जा रहा था। लेकिन गीत के बोल पल्ले नहीं पड़ रहे … Read more

गळ्या का सपना | गोविंद सेन

गळ्या का सपना | गोविंद सेन

गळ्या का सपना | गोविंद सेन – Galya Ka Sapana गळ्या का सपना | गोविंद सेन गळ्या पावणा अमर्या बाबा के यहाँ वरसूद था। वरसूद याने कि एक निश्चित रकम के बदले किसान के यहाँ साल भर काम करने वाला मजदूर जिसे खेती के साथ घर के काम भी करने होते हैं। ये वफादार वरसूद … Read more

गुमशुदा चाँद की वापसी | गोविंद सेन

गुमशुदा चाँद की वापसी | गोविंद सेन

गुमशुदा चाँद की वापसी | गोविंद सेन – Gumashuda Chaand Ki Vapasi गुमशुदा चाँद की वापसी | गोविंद सेन धरतीपुत्र जी दसवीं क्लास में घुसे हुए थे। दो पीरियड हो चुके थे। लेकिन अभी भी वे बच्चों को छोड़ने के मूड में नहीं थे। लघु विश्रांति भी हो चुकी थी। लेकिन वे भूल चुके थे … Read more

गड़वाट | गोविंद सेन

गड़वाट | गोविंद सेन

गड़वाट | गोविंद सेन – Gadavat गड़वाट | गोविंद सेन सड़क के नीचे गड़वाट दबी है। जैसे कालीन के नीचे धूल भरा खुरदरा फर्श। वही गड़वाट जिसमें पहाड़ों से उतरकर पगडंडियाँ गुम हो जाती हैं, जो बैलगाड़ियों के चलने से बनती हैं। गड़वाट में पहियों के कारण दो गहरी लीकें बन जाती हैं, इन लीकों … Read more