सागर-तट
सागर-तट

यह समन्दर की पछाड़
          तोड़ती है हाड़ तट का –
          अति कठोर पहाड़।
 

पी गया हूँ दृश्‍य वर्षा का :
हर्ष बादल का
हृदय में भर कर हुआ हूँ हवा-सा हलका।
 

धुन रही थीं सर
व्‍यर्थ व्‍याकुल मत्त लहरें
वहीं आ-आकर
जहाँ था मैं खड़ा
मौन;
समय के आघात से पोली, खड़ी दीवारें
जिस तरह घहरें
एक के बाद एक, सहसा।
 

See also  मां | दिविक रमेश

चाँदनी की उँगलियाँ चंचल
क्रोशिये से बुन रही थीं चपल
फेन-झालर बेल, मानो।
पंक्तियों में टूटती-गिरती
चाँदनी में लोटती लहरें
बिजलियों-सी कौंदती लहरें
मछलियों-सी बिछल पड़तीं तड़पती लहरें
बार-बार।
 

स्‍वप्‍न में रौंदी हुई-सी विकल सिकता
पु‍तलियों-सी मूँद लेती
आँख।

         यह समन्दर की पछाड़
          तोड़ती है हाड़ तट का —
          अति कठोर पहाड़।
          यह समन्दर की पछाड़
[1945]

Leave a comment

Leave a Reply