पूर्णिमा का चाँद
पूर्णिमा का चाँद

चाँद निकला बादलों से पूर्णिमा का।
               गल रहा है आसमान।
एक दरिया उमड़ कर पीले गुलाबों का
               चूमता है बादलों के झिलमिलाते
               स्‍वप्न जैसे पाँव।

See also  जाति के लिए | पंकज चतुर्वेदी

Leave a comment

Leave a Reply