रेत में शाम
रेत में शाम

चल पड़ी नाव
धीरे-धीरे फिर संध्या आई
नदी नाव संयोग हुआ अब
मन में बालू की आकृतियाँ छाईं

टूटा तारा
टूटी लहरें
टूटा बाट-बटोही
टूट-टूट कर आगे बढ़ता
पीछे छूटा गति का टोही

चाँद निराला
मुँह चमकाता
चमका-चमका कर मुँह बिचकाता
बचा हुआ जो कुछ कण था
आगे-पीछे बहुत छकाता

See also  साध्वी

आया तट
अब लगी नाव
लहरें हो गईं थोड़ी शीतल
मन का मानिक एक हिराना
लहरों पर होती पल
हलचल!
   (‘रेत में आकृतियाँ’ संग्रह से)

Leave a comment

Leave a Reply