प्रेम नहीं, प्रेम 1
प्रेम नहीं, प्रेम 1

प्रेम सिर्फ प्रेम नहीं होता
उसकी होती है एक
हरी-भरी फसल

फसल सिर्फ फसल नहीं होती
उसमें होती हैं किसान की आँखें

आँखें…
आँखों में पानी होता है
जिसे सूरज गर्म करता है
हवा उड़ाती है
पानी न होने पर धरती बंजर हो जाती है

लेकिन
बंजर सिर्फ बंजर नहीं होता
मेरी दोस्त !

Leave a comment

Leave a Reply