पौधे उगते रहेंगे
पौधे उगते रहेंगे

मेरे कमरे की एक खिड़की से पहाड़ों की हवा आती है
दूसरी से समुद्रों की
आसमान की तरफ खुलता है दरवाजा
नीले फूलों वाले कुछ पौधे उगे हैं कमरे में
आधी रात को मैं दरवाजा खोलता हूँ
टूटकर गिरते हैं तारे
और कुछ पौधे उगते हैं वहाँ से
नीले फूल टिमटिमाते हैं आधी रात को
मैंने कुछ बीज इकट्ठे कर रखे हैं इन पौधों के
जिन्‍हें मैं फेंकता रहता हूँ
पहाड़ों और समुद्रों की तरफ

See also  किसी क्रांति में नहीं शांति | प्रतिभा कटियारी

किसी दिन बंद हो जाएगा
मेरे कमरे का दरवाजा
सूख जाऊँगा मैं
लेकिन पौधे उगते रहेंगे
पहाड़ों और समुद्रों की तरफ।

Leave a comment

Leave a Reply