मिल गया है इक नया संसार तुमसे
मिल गया है इक नया संसार तुमसे

मिल गया है इक नया संसार तुमसे।
लग रहा करने लगी हूँ प्यार तुमसे।
                                   
साँझ की चढ़ती जवानी भी न भाती।      
भोर की पहली किरन भी हास पाती।
ओस के संसर्ग भीगे पात दिल के।
फूल ज्यों सोए पड़े हैं आज खिल के।
है इन्हीं सा हाल, जोड़े तार तुमसे ?
लग रहा करने लगी हूँ प्यार तुमसे।
                                   
आज ये नदिया चली थी शाम तट से।
सब घटाँ पूछतीं थीं राज पट से।
अब हवाओं में नहीं गिरती-सँभलती?
मौन थी मैं, धड़कनें कहतीं-उछलती।
मैंने सीखा है चलन का सार तुमसे।
लग रहा करने लगी हूँ प्यार तुमसे।
                                   
तुम न थे तो ये कहाँ कुछ हो रहा था?
आसमाँ भी दूर जाकर सो रहा था।
स्नेह-तिनके-सा तुम्हारा खींच लाया।
ऊर्मियों पर आज कैसा गीत गाया।
दिल कहे कर पार सीखूँ प्यार तुमसे ?
लग रहा करने लगी हूँ प्यार तुमसे।

Leave a comment

Leave a Reply