गुलाबी लिफ़ाफ़े

अब तक की उम्रों में एक उम्र थी
जब गुलाबी लिफ़ाफ़े आने शुरू हुए डाक में
डाकिया भी देते हुए
चोर निगाहों से फिर-फिर देखता उन्‍हें
मुस्‍कुराता
जैसे कुछ ग़लत पकड़ लेने के अभिमान में

मुझे गुलाबी पसंद ही नहीं था
वे आते ही खिझा देते मुझे भीतर भी निकलते गुलाबी ही पन्‍ने
महकते हुए इतना कि छींक आ जाती

पता नहीं क्‍या सोचकर भेजा जाता उन्‍हें मेरे पते पर
बाहर भेजने वाले का पता लिखे बिना
भीतर चिट्ठी भी अनाम
बहुत-बहुत भावुकता से भरी और आखीर में – तुम्‍हारी डैश डैश डैश

मैंने कभी पूरा विश्‍वास नहीं किया
पर शायद कोई आसपास की लड़की ही भेजती थी उन्‍हें
क्‍योंकि स्‍थानीयता ऐसी गंध है कि दूर से पहचानी जाती है
और दोस्‍तों की राय भी यही
कि गुलाबी लड़कियों का रंग है
पर वह अनाम रहना चाहती थी यह शायद उसकी मज़बूरी थी
मैं सब कुछ नामसहित चाहता था यह मेरा हठ था
सो मिलते और पढ़ते ही फाड़ डालता उन्‍हें

See also  लो दिन बीता, लो रात गई | हरिवंशराय बच्चन

महीनों चला ये सिलसिला
फिर बंद हो गया मैंने भी सोच लिया शायद दूसरी किसी दिशा में बह चली हो हवा

अब अपनी उम्रों में वो उम्र है
जब सरकारी ख़ाकी लिफ़ाफ़े ही आते हैं अकसर
भारत सरकार सेवार्थ
जिनमें न कोई सेवा न कोई अर्थ
कमरे की मेज़ पर इकट्ठा होती रहती हैं ऐसी चिट्ठियाँ
नाम तो क्‍या पत्रांक सहित

बरसों को लाँघ अचानक कल फिर दिख पड़ा चिट्ठियों के बीच वही गुलाबी रंग
कुछ झिझक और कुछ मुँह को आती उत्‍सुकता से हाथ में लिया
चेहरे के नज़दीक लाया तो वही महक
वही मेरी छींक
पर अब कुछ भी लापता नहीं था
न बेनाम

बीच का सारा समय खो चुका था कहीं सब कुछ बहुत खुला-खुला था
जिसका था डर वही हुआ था

See also  यात्राएँ

चिट्ठी में भावुकता नहीं बीते पंद्रह बरसों को धकेलता धिक्‍कार था
वो बहुत पास की एक लड़की का नाम था एक स्‍त्री के नाम में बदला हुआ

अभी आईना देखा है मैंने वहाँ बस एक पथरीला चेहरा दिख रहा है
उसने जो ढेर सारा बेरतीब-सा लिखा था चिट्ठी में
उसे कम शब्‍दों में यह एक लगभग कवि कुछ तरतीब से लिख रहा है –

तुमने बीस बरसों में बहुत कुछ पा लिया है 
मैंने खो दिया है सभी कुछ 
पाया है तो बस एक दूसरा उपनाम पिता के उपनाम और उससे जुड़ी एक पूरी उम्र को 
क़त्‍ल-सा करता हुआ 

अहंकारी !
तुम अब कवि हो जाओ प्रोफेसर हो जाओ मेरे किस काम के 
कभी मैंने बिना नाम लिखे अथाह प्रेम भेजा था तुम्‍हें लगातार महीनों तक 
मुझे पहचान ही जाओगे इस एक आस में

लो अब मेरी आवाज़ तक को सोख चुकी उस प्‍यास में 
नामसहित उतनी ही घृणा भेजती हूँतुम्‍हें 
शायद तुम सीख जाओ क़द्र करना उस सबकी 
जो अब भी 
तुम्‍हारे आसपास बेनाम है

ओ झूटे !
टी.वी. में दिखते किस मुँहसे कहते हो मंच पर चढ़ कर कि जो जन बेनाम रहे अब तक 
उन्‍हें नाम देना ही मेरी कविता का काम है 

Leave a Reply

अलग-अलग पोज़ में अवनीत कौर ने करवाया कातिलाना फोटोशूट टीवी की नागिन सुरभि ज्योति ने डीप नेक ब्लैक ड्रेस में बरपया कहर अनन्या पांडे की इन PHOTOS को देख दीवाने हुए नेटिजेंस उर्फी जावेद के बोल्ड Photoshoot ने फिर मचाया बवाल अनन्या पांडे को पिंक ड्रेस में देख गहराइयों में डूबे फैंस Rashmi Desai ने ट्रेडिशनल लुक की तस्वीरों से नहीं हटेगी किसी की नजर ‘Anupamaa’ ब्लू गाउन में, Rupali Ganguly Pics Farhan-Shibani Dandekar Wedding: शुरू हुई हल्दी सेरेमनी Berlin Film Festival: आलिया ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ स्टाइल में PICS अवनीत कौर प्रिंटेड ड्रेस में, बहुत खूबसूरत लग रही हैं Palak Tiwari ने OPEN ब्लेजर में कराया BOLD फोटोशूट साड़ी के साथ फ्लावर प्रिंटेड ब्लाउज़ में आलिया भट्ट
%d bloggers like this: