Tushar Dhawal
Tushar Dhawal

जिसकी गरदन के पीछे से झाँकता सूरज ढल चुका है 
धरती की फटी हथेली से उगा वह कुंद फोड़ा 
अब नीला पड़ गया है विष पीकर 
कितने अवसाद कितनी सदियों के प्रश्न जीकर 
वह खड़ा है अकेला जब सब जा चुके हैं 
लौट चुका है प्रश्नाकुल दिन का उजाड़ संन्यासी रातों की कोख में 
ओस की दीमक धीरे धीरे घोल रही है उसकी चट्टानी हड्डियों को 
खोपड़ी की कोटर में दो आँखें सपनीली सी मगर 
डूबी हुई हैं स्वप्न में सितारों के पार एक समझौता दुखों से है

See also  कविता नहीं वह सीढ़ियाँ लिखता है

समझौता यह दुख का दुखों से 
जीवन की जीवन में आहुति मृत्यु के सनातन यज्ञ में 
जीवन तिलक लगाता है मृत्यु के ललाट पर 
शुभ लिखता है उसके माथे पर

शोध अथक अस्तित्व का जीवन की मिट रही लकीरों पर 
उसे थामे रहता है

ज्ञान अकेला कर चुका है उसे अलग अपनी व्याप्ति में 
और विष पीकर वह नीला धूसर शांत है

उसकी तहों में उठ रही लहर अभी अधूरी है 
ज्ञान भी ज्ञान नहीं है अभी 
अनुभूतियाँ बदलेंगी उसका रूप

See also  ध्रुव प्रदेश की यात्रा | निकोलाइ असेयेव

सब जा चुके हैं 
वह खड़ा है अकेला 
धरती की हथेली से उगा कुंद फोड़ा

यह किस दुख का पहाड़ है ? 
यह किस पहाड़ का दुख है ?

उसकी पीठ पर लदा है संसार एक 
उल्टे पड़े बासी बरतनों के निरर्थक औचित्य सा 
वही उम्मीदें हैं वही निराशा कुंठा भी वही है 
जब चाँद यह आकाश की स्लेट पर उजाला लिख रहा है 
वह खोजता है राग जीवन से 
उसमें अस्थियाँ हैं विसर्जित पूर्वजों की

See also  यथार्थ और भाषा | अर्सेनी तर्कोव्‍स्‍की

उसमें बसती हैं कल्पनाएँ निर्वात अशरीरी 
वह बारिश की अँगुलियों से गीत लिखता है हवा में 
कराहता है दुःस्वप्नों की नींद में 
राग विराग के बीच दुखों का सफर 
तापता तराशता है उसे 
संघर्षों के संस्मरण में 
ज्ञान और सत्य आपस में घुल जाते हैं

गहराती बेला में 
गूढ़ हो जाता है 
धरती की फटी तलहथी से उगा यह कुंद फोड़ा

Leave a comment

Leave a Reply