चुप्पी
चुप्पी

हम चुप है
कि खलल न पड़े
चुप्‍पी में

आप चुप हैं
कि सब कुछ
कहा जा चुका है

वे चुप हैं
कि जवाब देने के लिए
उनके पास कुछ नहीं

आओ बातें कर लें
इस बारे में
जिसे लेकर
हम इतने लंबे समय तक
चुप रहे

See also  खनक उठो, ओ यौवन | निकोलाइ असेयेव

Leave a comment

Leave a Reply