बल्ब
बल्ब

इतनी बड़ी दुनिया है कि
एक कोने में बल्ब जलता है तो
दूसरा कोना अंधेरे में डूब जाता है

एक हाथ अंधेरे में हिलता है तो
दूसरा चमकता है रोशनी में
कभी भी पूरी दुनिया
एक साथ उजाले का मुँह नहीं देख पाती

एक तरफ रोने की आवाज गूँजती है तो
दूसरी तरफ कहकहे लगते हैं
पेट भर भोजन के बाद

See also  धीरे से कहती थी नानी | जितेंद्र श्रीवास्तव | हिंदी कविता

जिधर बल्ब है उधर ही सबकुछ है
इतना साहस भी कि
अपने हिस्से का अंधेरा
दूसरी तरफ धकेल दिया जाता है

एक कोने में बल्ब जलता है तो
दूसरा कोना सुलगता है उजाले के लिए दिन रात।

Leave a comment

Leave a Reply