Tushar Dhawal
Tushar Dhawal

एक दिन हम लौट गए थे 
अपनी अपनी दिशाओं में 
अपनी अपनी भीड़ों में डूब जाने को 
तुम्हारी भीड़ तुम्हें अपने भीतर भरकर 
तुम्हें मुझसे 
दूर घसीटती जा रही थी 
उसी भीड़ की ठेलती टाँगों के बीच से मेरी तरफ तड़पकर लपकती हुई 
हवा में खिंची रह गई तुम्हारी बाईं हथेली और उसका वह ज़र्द रंग 
मैं साथ लिए चलता हूँ 
चूमता हूँ हर माथे को अपने अधूरेपन में 
बटन टाँकता हूँ हर दरवाज़े पर जैसे वह कोई खुली रह गई कमीज़ है 
जिसे चौखट ने अधूरा ही पहन लिया हो 
जैसे अधूरा अधूरेपन से साँस मिलाता है

See also  त्याग | प्रतिभा चौहान

अधूरापन त्रासदी का पूर्णकथन है 
और अधूरी त्रासदियाँ कभी पूरी नहीं होतीं 
वे लौटती हैं बार बार 
हर बार खुरचकर भी मन नहीं भरता

इधर जी नहीं भरता अधूरेपन से जिसे साथ लिए चलता हूँ 
हवा में खिंची रह गई तुम्हारी बाईं हथेली संग 
उसी से छूता हूँ इस धरती को 
उसके गर्भ को उसी से सहलाता हूँ

See also  तलाक | मुंशी रहमान खान

अपने अधूरे होठों से अधूरी हवा में चूमता हूँ तुम्हारे अधूरे चेहरे को अधूरे आकाश तले 
और गजब सा लगता है 
तुम्हारा प्रेम पीकर 
हर कुछ से 
प्रेम हो जाता है

Leave a comment

Leave a Reply