थके हुए समय में
थके हुए समय में

रात अपनी बाजुओं में
जकड़ती गयी
थकी हुई देह पर
अँधेरा बिछ गया
सन्नाटा सिर पर
सरकता रहा
तारे चेतना में बीतते रहे

शायद एक चिड़िया ने धीरे से
कहा था
कि संकट से पटा समय
दरअसल
संकट में नहीं था
कहीं कोई नहीं हुई थी दुर्घटना
मरा नहीं था कोई
कड़कड़ाती ठंड से
भूख ने विवश नहीं किया था
किसी बच्चे को
सड़क पर
भीख माँगने के लिए

See also  साँस का खिलना

कुल मिलाकर
रात गाभिन गाय की तरह अलसायी थी
और थके हुए समय में
उसे सचमुच
झपकी आ गयी थी

Leave a comment

Leave a Reply