सपने 1
सपने 1

न न न
न छूना इन्हें
इन्हें केवल देखो

ये खिलौने नहीं हैं
ये सपने हैं
अभी कच्चे हैं
छूते ही ये भहरा जाएँगे।
   (‘रेत में आकृतियाँ’ संग्रह से)

See also  मौसम

Leave a comment

Leave a Reply