पवित्र आत्माा
पवित्र आत्माा

साँस लेकर
जीती रहो वैसे ही
जैसे अब तक जीती रही

माँ जानती है जैसा तुम्‍हें
जैसे पिता मैं तुम्‍हारा-जानता हूँ तुम्‍हें
और दिल में हमेशा पकड़ रखी है तुमने
मेरी विशेष प्‍यारी शुभकामनाएँ

और वर्षों बाद तुमसे
मेल-मुलाकात तो होगी
पता नहीं शायद-यादों और सोच में
इस पर आशा करते हैं
और विश्‍वास रखते हैं

See also  सरनामी देवी

कि आज की तरह ही देखेंगे
तुम्‍हारी दोनों आँखों में
पिता परमेश्‍वर को
पवित्र आत्‍मा के साथ

Leave a comment

Leave a Reply