मैं और वो | अवनीश गौतम
मैं और वो | अवनीश गौतम

मैं और वो | अवनीश गौतम

मैं और वो | अवनीश गौतम

1.

वो पूछती, साथ चलोगे?
मैं डरता,
पता नहीं कहाँ ले जाएगी मुझे?
डर से मैं मौन रहता
मेरा मौन उसे अबूझ लगता
अबूझ के आकर्षण से वह बंधी रहती

उसके बंधे होने से
मेरा डर काफी कम हो जाता

See also  समय की नदी | माहेश्वर तिवारी

2 .

मेरी हाँ और ना के
बीच इतना अंतराल होता कि
कि वो उसी में प्रेम कर, गुस्सा कर,
रो कर, थक कर, घुटने मोड़ कर सो जाती
कभी-कभी वह नींद में बड़बड़ाती
तब मैं उसे थपकियाँ दे कर सुला देता
अपने ही बड़बड़ाने की आवाज से
वह जाग सकती थी

See also  बादलों में घिरी सूर्य की भूमिका

मुझे उसके जागने से डर लगता
जबकि सोती हुई वह देवी लगती थी

3 .

वो हमेशा ज्यादा सामान रखती
मैं उसे समझाता
सफर पर साथ चलाना है तो
सामान हल्का होना चाहिए
देखो प्रेम में ढाई अक्षर होते हैं
जबकि बराबरी में चार

और वो अक्सर मान जाती

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *