माँ, मुझे बना दे
माँ, मुझे बना दे

उड़ रही है फाख्ता, एक सफेद फाख्ता।
उसका पीछा कर रहा है क्रुद्ध बाज।
माँ बचा मुझे, ऐसा करिश्‍मा कर दिखा
आसमान में बना दे मुझे बारिश की एक बूँद।

बहुत लंबा जा रहा यह युद्ध, भयानक लंबा!
छाती में लगी गोली के साथ कठिन हो रहा है भागना!
कभी न हो पाऊँगी बड़ी मैं उस जिंदगी में
यदि इसी वक्त न हो सकूँ – आजाद बहती हवा।

See also  मैं कोई फ़रिश्ता तो नहीं था | दिविक रमेश

हमारे लोग आयेंगे जलायेंगे तारे
मुझे याद करेंगे, हमारे गीत गायेंगे
माँ, बचा मुझे, ऐसा करिश्‍मा कर दिखा –
एक टहनी बना दे मुझे उजले जंगल में!

अलविदा, माँ, बायें पंख में गहरी चोट आई है!
कल सूर्य जल्‍दी निकल आयेगा इस जंगल में…
हमारे लोग आयेंगे, वे तारे जलायेंगे –
मुझे याद करेंगे, हमारे गीत गायेंगे।

Leave a comment

Leave a Reply