मैंने नाम लिया
मैंने नाम लिया

मैंने फूल का नाम लिया – फूल खिल उठा
चटख रंगों में बिखेरने लगा पराग।
मैंने चिड़िया का नाम लिया – गाने लगी चिड़िया
अंडे में से रोशनी में निकल आई सब बंधन तोड़।

मैंने दिन का नाम लिया, नाम लिया इस क्षण का
कि आ गया यह दिन, यह क्षण
मैंने बच्‍चे का नाम लिया – वह पैदा हो गया,
और रहेगा जीने के लिए हमारे बाद।

See also  आलमपनाह के बाद आलमपनाह | नरेंद्र जैन

अभी मुझे नाम लेने हैं कुछ और चीजों के
जो पड़ी हैं अनाम अंधकार में।
एकदम मामूली है मेरा यह जादू
लेकिन यह रहेगा अभी जादू ही।

Leave a comment

Leave a Reply