सम्मेलन, महोत्सव, टीवी, अखबार
साहित्यिक मनोविलास की बातें
‘कलमखोरों’ को लिखने दो
अगर लिख सको तो…
उन लंबी कतार में लगे लोगों की बातें लिखो
जिनकी आवाज कोई नहीं सुन रहा

सत्य के चेहरे पर कालिख पोत कर
झूठ की पूजा करते
उन लोगों के बारे में लिखो
जो हर आदेश पर फौरन
सिर झुका लेते हैं
‘देशप्रेम’ को प्रायोजित करने वालों का चेहरा बेनकाब करो

See also  चकनाचूर आकाश

निहत्थे व्यक्ति के दिमाग में हो रहे
विस्फोट को समझो और
उन लोगों के बारे में लिखो
जो व्यवस्था से धोखा खाकर
पत्थर और पीपल को पूजते हैं

सच्चाई की ताजी हवा को
मन के खुले खिड़की-दरवाजों से
अपने भीतर आने दो और
उन लोगों के बारे में लिखो
जो न तो पंच पटेल हैं, न सरपंच न प्रधान
न ही कोई अधिकृत व्यक्ति
जिसके हाथ में है अधिकार
फैसला देने का

See also  सपनों की बातें | मिथिलेश कुमार राय

उलट दो समय रथ के उस पहिये को
जो इनसानियत के सीने से गुजर रहा है और
उन लोगों के बारे में लिखो
जो जुलूस का नेतृत्व करना नहीं जानते
झंडा लेकर चलने का सामर्थ्य नहीं जिनमें
आक्रोश से भरी हुई
बेरोजगार, दिशाहीन पीढ़ी के बारे में लिखो
जिसकी नाक में नकेल डालकर
पालतू बनाने की राजनीतिक कोशिश हो रही है

Leave a comment

Leave a Reply