कविता
कविता

जैसे एक लाल पीली तितली
बैठ गयी हो
कोरे कागज पर निर्भीक
याद दिला गयी हो
बचपन के दिन

See also  दादा जी साइकिल वाले | फ़रीद ख़ाँ

Leave a comment

Leave a Reply