जीने का अभ्यास | अजय पाठक
जीने का अभ्यास | अजय पाठक

जीने का अभ्यास | अजय पाठक

जीने का अभ्यास | अजय पाठक

वादे खाकर भूख मिटाते
आँसू पीकर प्यास
हम करते हैं पेट काटकर
जीने का अभ्यास।

पन्ने-पन्ने फटे हुए हैं
उधड़ी जिल्द पुरानी
अपनी पुस्तक में लिक्खी हैं
दुख की राम कहानी
भूख हमारा अर्थशास्त्र है
रोटी है इतिहास।

See also  कभी नहीं था आसान | प्रफुल्ल शिलेदार

शिल्पी, सेवक, कुली, मुकउद्दम
खूब हुए तो भृत्य,
नून-तेल के बीजगणित का
समीकरण साहित्य
चार दिवस कुछ खा लेते हैं
तीन दिवस उपवास।

प्रश्नपत्र-सी लगे जिंदगी
जिसमें कठिन सवाल
वक्त परीक्षक बड़ा कांइंयाँ
करता है पड़ताल
डाँट-डपटकर दुख-दर्दों का
रटवाता अनुप्रास।

संभला करते हैं गिरकर हम
आगे बढ़ते हैं
अपने श्रम से हम दुनिया
के सपने गढ़ते हैं
अंतरिक्ष से नहीं माँगते
मुट्टी भर आकाश।

Leave a comment

Leave a Reply