उमेश चौहान
उमेश चौहान

जंगल के राजा चुने नहीं जाते
भय पैदा करने की शक्ति के आधार पर
स्वयमेव नियत हो जाते हैं
जंगल के राजा

कहने को तो जंगल के राजा
न्याय बाँटते हैं
सुरक्षा देते हैं
भूखे-नंगे पेटों की लड़ाई लड़ते हैं
लेकिन कहीं नहीं दिखाई देते वे लोग
जिन्हें अपना अधिकार वास्तव में मिला हो
जीने की स्वतंत्रता मिली हो
जिनकी भूख और नंगापन मिटा हो

जंगल की प्रजा का सुख तो बस
राजा की आँख टेढ़ी होने तक ही सुरक्षित रहता है
सागवन की लकड़ी और तेंदू के पत्तों की तरह
जंगल के राजा देखे जा सकते हैं
प्रायः लूट-खसोट करते
इज्जत पर डाका डालते
लेवी की बंदरबाँट के लिए
राँची, कलकत्ता और ढाका तक की सैर भी
अक्सर कर आते हैं जंगल के राजा

See also  यह लालटेन | नरेश अग्रवाल

पंचतंत्र के किस्से की तरह
जंगली बस्तियों के मोटे-तगड़े जानवर
बारी-बारी से पेश होते हैं
डरे-सहमे उनके सामने
ताकि भरा रहे पेट उनका
और लोग बेतरतीब ढंग से न बनें उनका शिकार
हुकूमत के हाथी प्रायः उन्हें अनदेखा कर
कन्नी काटकर निकल जाते हैं उनके रास्तों से
जब भी कोई चालाक खरगोश
राजा की माँद तक जाकर भी
बच जाता है जिबह होने से
और चालाकी से फँसा देता है उसे
किसी अंध-कूप में
या प्रतिवाद करता है उसके फरमानों का

See also  जंगल में बारिश | अंजना वर्मा

तो ऐसे में
जंगल के राजा की फौज
जमकर प्रतिकार लेती है
अपना परचम ऊँचे तान
क्रांति के नगाड़े बजाकर
वह भरी बस्तियों में खून की होली खेलती है
जैसे ऐसे ही किसी मौके के लिए
पढ़े हों उसने क्रांति के सारे कसीदे
जुटाए हों देश-विदेश से मारक हथियार
और की हों शक्ति-प्रदर्शन की सारी तैयारियाँ

See also  यहीं कहीं था घर

भूखे पेट की आग बुझाने
काम के बोझ से दोहरी हुई कमर को सीधी होने का मौका देने
बुखार से तपते गाँव के बच्चे को दवा या दुआ देने
जमीन से बेदखल लोगों को उनका वास्तविक हक दिलाने
महानगर की बौद्धिक परिचर्चाओं से बाहर निकलकर
अपनी सेना की रणभेरी बजाने
कभी नहीं आते जंगल के राजा
क्योंकि वे स्वयंभू होते हैं
और कभी अपनी प्रजा के द्वारा नहीं चुने जाते।

Leave a comment

Leave a Reply