हरी मिर्च3
हरी मिर्च3

बंधुओ !
इक्कीसवीं सदी में जाने की हड़बोंग मची हुई है
मानो वह आ नहीं रही है –
हमीं उसमें घुसते चले जा रहे हैं
जैसे इक्कीसवीं सदी में जाना
घर बदलना हो।

सारी कीमती चीजें
बटोरी जा रही हैं –
मणियाँ और रत्न
सोना और चाँदी
बीमा के कागज
शेयर सर्टिफिकेट
और नई पुरानी पांडुलिपियाँ
यहाँ तक कि –
कुछ कवि वर्षों से बटोर रहे हैं प्रेमपत्र
इस अंदेशे में कि
अगली सदी में प्रेम रहे न रहे
इसलिए बचे रहें प्रेमपत्र,
सारी चीजें रखी जा रही हैं –
कपड़े-लत्ते
राशन-पताई
हल्दी-धनिया
आलू-प्याज-टमाटर
हरी मिर्च की ओर
किसी का ध्यान ही नहीं जा रहा है।

See also  सपने हथियार नहीं देते | अनुराधा सिंह

मुझे डर है
इस राम हल्ले में कहीं छूट गई हरी मिर्च
तो अगली सदी
बेमजा हो जाएगी।

Leave a comment

Leave a Reply