घोषणा
घोषणा

तुमने मुझे बेंच दिया
खरीददार भी तुम ही थे
अलग चेहरे में

उसने नहीं देखीं मेरी कलाइयों की चूड़ियाँ
माथे की बिंदी …माँग का सिंदूर
उसने गोरे जिस्म पर काली करतूतें लिखीं
उसने अँधेरे को और काला किया… काँटों के बिस्तर पर
तितली के सारे रंग को क्षत-बिछत हो गए

See also  मक्खियों की रानी | निकोलाई जबोलोत्स्की

तुमने आज ही अपनी तिजोरी में
नोटों की तमाम गड्डियाँ जोड़ी हैं
खनकती है लक्ष्मी
मेरी चूड़ियों की तरह

चूड़ियों के टूटने से जख्मी होती है कलाई
धुल चुका है आँख का काजल
अँधेरे बिस्तर पर रोज बदल जाती है परछाइयाँ
एक दर्द निष्प्राण करता है मुझे

तुम्हारी ऊँची दीवारों पर
मेरी कराहती सिसकियाँ रेंगती है
पर एक ऊँचाई तक पहुँच कर फ्रेम हो जाती है मेरी तस्वीर
जिसमें मैंने नवलखा पहना है

See also  हमारा प्यार

खूँटे से बँधे बछड़े सी टूट जाऊँगी एक दिन
बाबा की गाय रँभाती है तो दूर बगीचे में गुम हुई बछिया भाग आती है उसके पास
मैं भी भागूँगी गाँव की उस पगडंडी पर

जहाँ मेरी दो चोटियों में बँधा मेरे लाल फीते का फूल
ऊपर को मुँह उठाए सूरज से नजरें मिलाता है…

See also  रेत में सुबह

Leave a comment

Leave a Reply