गाँव की पुकार
गाँव की पुकार

नहीं
सच तो यह है,
तुम अपने गाँव लौट नहीं सकते

फूलों से लदी जिन बेलों ने तुम्हारे कदमों को रोका था,
जिन बादलों ने तुम्हें पगलाया
अब नहीं हैं वहाँ

हाल ही में एक पंद्रह बाई बीस फुट की नहर खुद गई है वहाँ
जब वह खेतों को सींचेगी तो धरती सोना उगलेगी;
गाँव के लड़के ऐसा मानते हैं,
उन्होंने टीवी और बाइक खरीद लिए हैं उधार पर

See also  दर्शन | ऋतुराज

इस उम्मीद में पुश्ते पर बस चलेगी
छोटा सा बाजार पहले ही फैल गया वहाँ;
एक फोन भी लगा लिया उन्होंने
गाँव की छोर के पंचायत घर में;
जो बंद पड़ा है

तुम नहीं चल सकते गाँव के रास्ते पर अब,
तुम्हारे महँगे जूते कीचड़ में सन जाएँगे

तुम व्यस्त आदमी हो –
हमेशा व्यस्त
ठीक है गाँव की धरती तुम्हें पुकार रही है;
अगर अब भी जाना चाहते हो तो खुशी से जाओ;
घंटे दो घंटे के लिए

See also  औरत बनने से पहले एक दिन | लाल्टू

सच बताऊँ
अगर अनवरत बरसात शुरू हो गई,
हो सकता है तुम लौट कर न आ सको

Leave a comment

Leave a Reply