एक कविता पंक्ति
एक कविता पंक्ति

न जाने कब से मैं
एक कविता-पंक्ति ले
यहाँ-वहाँ भटकी हूँ।

कल गर्मी थी :
धूप थी, तपन थी।
आज बरसात है :
ऊपर घिराव और नीचे गिजगिजाहट है।
कल ठंड हो जाएगी :
भाव, छंद सब जमेंगे।

आह ! यह मेरी भटकती पंक्ति कविता की अकेली,
टूटी कड़ी-सी
अब किसी से न जुड़ पाएगी।

See also  मुक्ति | विश्वनाथ-प्रसाद-तिवारी

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *