धूप कोठरी के आइने में खड़ी
धूप कोठरी के आइने में खड़ी

धूप कोठरी के आइने में खड़ी
हँस रही है

पारदर्शी धूप के पर्दे
मुसकराते
मौन आँगन में

मोम-सा पीला
कोमल नभ

एक मधुमक्‍खी हिलाकर फूल को
बहुत नन्‍हा फूल
उड़ गई

आज बचपन का
उदास माँ का मुख
याद आता है

(1959)

See also  लकड़-सुँघवा | फ़रीद ख़ाँ

Leave a comment

Leave a Reply