चूड़ियाँ पहनने की कला
चूड़ियाँ पहनने की कला

खाली पन्ना शब्द पहनता है
स्नेह और धैर्य से
काँच की चूड़ियाँ पहनने वाली लड़कियों की तरह
एक एक करके,एक-एक करके, ध्यान से हौले-हौले,
इस तरह सही फिट करना कि
हाथ दबाते हुए न चूड़ी टूटे
और न ही हाथ को चोट लगे

वे लटकती हुई ढीली और बड़ी न हों
या इतनी कसी भी न हों कि खाल से चिपक जाएँ
उन्हें धड़कने दो
उल्लास में बजते हुए, हाथ में चढ़ने दो
शब्दों और सृजन के
नृत्य में थिरकने दो।

Leave a comment

Leave a Reply