बँटवारा
बँटवारा

वह कहती थी और कहती रहती थी
तुम मेरे हो।

मैं कहता था
तुम मेरी हो और मेरी ही रहोगी।

आखिर जब बँटवारा हुआ
तो
दोनों आश्चर्य चकित थे!!

See also  अजनबी | प्रांजल धर

Leave a comment

Leave a Reply