आजकल माँ
आजकल माँ

आजकल माँ के
चेहरे से
एक सूखती हुई नदी की
भाप छुटती है
ताप बढ़ रहा है
धीरे-धीरे
बस
बर्फानी चोटियाँ
पिघलतीं नहीं

See also  उसका चेहरा | प्रयाग शुक्ला

Leave a comment

Leave a Reply