पुल से लिपट कर रोती नदी | रवीन्द्र स्वप्निल प्रजापति
पुल से लिपट कर रोती नदी | रवीन्द्र स्वप्निल प्रजापति

पुल से लिपट कर रोती नदी | रवीन्द्र स्वप्निल प्रजापति

पुल से लिपट कर रोती नदी | रवीन्द्र स्वप्निल प्रजापति

पुल बना और गाँव सुंदर हुआ
नदी सूखी तो गाँव ने इधर उधर देखा
यह अचानक सब नहीं हुआ था लेकिन
उत्तर किसी के पास नहीं था

See also  इंतजार | ज्ञानेन्द्रपति

मेरे गाँव के लोगों के लिए
कुछ मील दूर सुनाई पड़ता था किसी काम का शोर
वहाँ बजते रहते थे विशाल इंजिनों के सिलेंडर
धुआँ और मजदूरों की लंबी साँसें जिंदा दिन रात
मिट्टी को अलटती मशीनों की लंबी भुजाएँ

रात को भी नहीं रुकती थी आवाज की बाढ़
काम लगातार होता था गाँव को पता नहीं था
पुल नदी के लिए बनाया था या सूखने के लिए

See also  आईना

वे आवाजें एक दिन पूरी तरह शांत हो गईं
मशीनें खराब पुरजे छोड़ कर न जाने कहाँ चली गईं
आसमान से देवता देखते थे यह सब
गाँव सोचता था किसी देवता की करामात है यह
जैसे ही काम रुका नदी ने सूखना शुरू कर दिया

पुल एक सूखी नदी पर एक स्मारक था अब
जिस पर वक्त ट्रकों की तरह गुजरने लगा था

See also  बहुत सी बातें

नदी बीमार गाय की तरह गाँव में आती है
जब भी पुल के नीचे से गुजरती है
शाम की रोशनी में पुल से लिपट कर रोती है

Leave a comment

Leave a Reply