जिनको बुरा लगा उनसे कुट्टी | लाल्टू
जिनको बुरा लगा उनसे कुट्टी | लाल्टू

जिनको बुरा लगा उनसे कुट्टी | लाल्टू

जिनको बुरा लगा उनसे कुट्टी | लाल्टू

आज फिर चाहता रहा कि तुम होती यहाँ
चाहना तुम्हें दारू की वजह थी
दिमाग में वह औरत भी थी
जिसे देख कर हम दोनों ने भौंहें सिकोड़ी थी

See also  जोखिम का शब्द | नरेंद्र जैन

मैंने तुमसे छिपाकर सोचा उसका बदन
उसके होंठों के पास जाकर
लौट आया मेरा सपना
आज़ादी की उसकी सभी घोषणाएँ
मेरी गुलामी चाहती थीं और
मुझे बचाने आसमान से कृष्ण रथ चलाते आ गए

पिछली रात ही तुमने मुझे
पुकारा था अर्जुन कहकर
अब तुम कह रही देखो अर्जुन का रथ

See also  आदम भेड़िये | रेखा चमोली

सोचा नशे में बतलाऊँ
गुलाम लोगों के इस देश में हताश
हवा में उड़ते बादलों पर हम कैसे सवार

मैंने यह सब सोचा
हो सकता है कोई ऐसा ही सोचकर
दो क्षण हँसे या अपने दोस्त को चूमे

बहरहाल जिनको बुरा लगा उनसे कुट्टी.

(पश्यन्ती – 1997)

Leave a comment

Leave a Reply