जया पार्वती व्रत | Jaya Parvati Vrat Katha, जानिये पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

जया पार्वती व्रत | Jaya Parvati Vrat Katha, जानिये पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

यह व्रत 5 दिनों शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी से शुरू होकर सावन महीने के कृष्ण पक्ष की तृतीया तक चलती है। इस बार 22 जुलाई से 26 जुलाई तक चलेगा व्रत। इस व्रत को अविवाहित महिलाएं पति तथा विवाहित महिलाएं पति के दीर्घायु के लिए रखती है। आषाढ़ महीने के शुक्लपक्ष की त्रयोदशी तिथि पर … Read more

आषाढ़ी एकादशी महत्व, स्टेटस, – Ashadhi Ekadashi

vitthal

आषाढ़ी एकादशी को देवशयनी एकादशी, हरिशयनी एकादशी, शयनी एकादशी आदि नामों से जाना जाता है। आषाढ़ी एकादशी का व्रत बहुत उत्तम माना जाता है, इस पवित्र दिन से भगवान विष्णु क्षीर समुद्र में चार माह तक शयन करते हैं। आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को आषाढ़ी एकादशी कहा जाता है। हिन्दू धर्म में … Read more

रक्षाबंधन

rakshabandhan

हिंदू धर्म में कलावा हाथ में बांधना शुभ माना गया है। धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक “कलावा” संकल्प, रक्षा और विश्वास का प्रतीक माना गया है। धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक व्यक्ति पर त्रिदेव- ब्रह्मा, विष्णु व महेश एवं त्रिदेवियां- लक्ष्मी, पार्वती व सरस्वती की कलावा बांधने से कृपा बनी रहती है। इसी कारण हिन्दू धर्म की … Read more

शिवजी के बारे में कुछ अज्ञात तथ्य क्या हैं?

shivji

1) शिव ने जिस धनुष को बनाया था उसकी टंकार से ही बादल फट जाते थे और पर्वत हिलने लगते थे। ऐसा लगता था मानो भूकंप आ गया हो। यह धनुष बहुत ही शक्तिशाली था। इसी के एक तीर से त्रिपुरासुर की तीनों नगरियों को ध्वस्त कर दिया गया था। इस धनुष का नाम पिनाक … Read more

भगवान के नाम का आश्रय

भगवान के नाम का आश्रय

भगवान के नाम का आश्रय:- वृन्दावन की एक गोपी प्रति दिन मथुरा दूध-दही बेचने जाया करती थी, प्रतिदिन यमुना पार करके जाना और यमुना पार करके वापस लौटना यह उसका प्रतिदिन का नियम था। एक दिन ब्रज में एक संत आये, संत ने भागवत कथा का प्रवचन करना आरम्भ कर दिया, गोपी ने देखा की … Read more

भगवान् कृष्ण बांसुरी क्यों रखते है ?

shri krishna

भगवान् कृष्ण बांसुरी क्यों रखते है ? 1. पहला- बांसुरी में गांठ नहीं है। वह खोखली है। इसका अर्थ है अपने अंदर किसी भी तरह की गांठ मत रखो। चाहे कोई तुम्हारे साथ कुछ भी करे बदले कि भावना मत रखो। 2. दूसरा- बिना बजाए बजती नहीं है, यानी जब तक ना कहा जाए तब … Read more

श्री हनुमान का विवाह

Hanuman ji with Wife

श्री हनुमान का विवाह

हनुमान जी को बाल ब्रह्मचारी माना जाता है इसलिए हनुमान जी लंगोट धारण किए हर मंदिर और तस्वीरों में अकेले दिखते हैं। कभी भी अन्य देवताओं की तरह हनुमान जी को पत्नी के साथ नहीं देखा होगा। लेकिन अगर आप हनुमान के साथ उनकी पत्नी को देखना चाहते हैं तो आपको आंध्रप्रदेश जाना होगा।आंध्रप्रदेश के खम्मम जिले में हनुमान जी का एक प्राचीन मंदिर है। इस मंदिर में हनुमान जीके साथ उनकी पत्नी के भी दर्शन प्राप्त होते हैं। यह मंदिर इकलौता गवाह है हनुमान जी के विवाह का। ऎसी मान्यता है कि हनुमान जी जब अपने गुरु सूर्य देव से शिक्षा प्राप्त कर रहे थे। उस दौरान एक विद्या जिसे सिर्फ विवाहित सीख सकते थे, के लिये, सूर्य देव ने हनुमान जी के सामने शर्त रख दी कि अब आगे कि शिक्षा तभी प्राप्त कर सकते हो जब तुम विवाह कर लो।ऎसे में आजीवन ब्रह्मचारी रहने का प्राण ले चुके हनुमान जी के लिए दुविधा की स्थिति उत्पन्न हो गई। शिष्य को दुविधा में देखकर सूर्य देव ने हनुमान जी से कहा कि तुम मेरी पुत्री सुवर्चला से विवाह कर लो। सुवर्चला तपस्विनी थी। हनुमान जी से विवाह के बाद सुवर्चला वापस तपस्या में लीन हो गई। इस तरह हनुमान जी ने विवाह की शर्त पूरी कर ली और ब्रह्मचारी रहने का व्रत भी कायम रहा। हनुमान जी के विवाह का उल्लेख पराशर संहिता में भी किया गया है।मान्यता है कि हनुमान जी के इस मंदिर में आकर जो दंपत्ति हनुमान और उनकी पत्नी के दर्शन करते हैं उनके वैवाहिक जीवन में प्रेम और आपसी तालमेल बना रहता है। वैवाहिक जीवन में चल रही परेशानियों से मुक्ति दिलाते हैं विवाहित हनुमान जी।???????

अक्षय तृतीया जो इस वर्ष 9May को है

अक्षय तृतीया जो इस वर्ष 9May को है….. उसका महत्व क्यों है ??? कुछ महत्वपुर्ण जानकारी… ? आज  ही के दिन माँ गंगा का अवतरण धरती पर हुआ था । ?-महर्षी परशुराम का जन्म आज ही के दिन हुआ था । ?-माँ अन्नपूर्णा का जन्म भी आज ही के दिन हुआ था ?-द्रोपदी को चीरहरण … Read more

गायत्री मंत्र कब ज़रूरी है

गायत्री मंत्र

?गायत्री मंत्र कब  ज़रूरी है ☀सुबह उठते वक़्त 8 बार ❕✋✌?❕अष्ट कर्मों को जीतने के लिए !! ?? भोजन के समय 1 बार❕?❕ अमृत समान भोजन प्राप्त होने के लिए  !! ? बाहर जाते समय 3 बार ❕✌?❕समृद्धि सफलता और सिद्धि के लिए    !! ? मन्दिर में 12 बार ❕?✌❕ प्रभु के गुणों को याद … Read more