जय एडमिन मैय्या

ॐ जय एडमिन मैय्या।
जय श्री एडमिन मैय्या।।

लोग बहुत होते हैं
शेर सभी होते हैं
तुम हो शेर सवैया
ऊँ जय एडमिन मैय्या
जय श्री एडमिन मैय्या।।

ग्रुप को तुमने बनाया
सबको संग जुटाया
इसके तुम्हीं खिवैया
ॐ जय एडमिन मैय्या
जय श्री एडमिन मैय्या।।

हम सब बिछड़ गए थे
कैसे भटक रहे थे
डूब रही थी नैया
ॐ जय एडमिन मैय्या
जय श्री एडमिन मैय्या।।

See also  बैंक का दिवाला | मुंशी प्रेमचंद | हिंदी कहानी

तुमने हमें मिलाया
जीना हमें सिखाया
पार लगाई नैया
ॐ जय एडमिन मैय्या
जय श्री एडमिन मैय्या।।

ग्रुप को जोड़े रखना
इसे बचाए रखना
चाहे लगे रुपैया
ॐ जय एडमिन मैय्या
जय श्री एडमिन मैय्या।।

सबमें प्रेम बढ़ाओ
सबको ख़ूब हँसाओ
नाचो ता ता थैया
ॐ जय एडमिन मैय्या
जय श्री एडमिन मैय्या।।

See also  दुनिया का सबसे अनमोल रतन | मुंशी प्रेमचंद | हिंदी कहानी

।।ॐ शान्तिः।।

?????????

Leave a Reply

%d bloggers like this: