जज और मजिस्ट्रेट मे क्या अंतर होता है?

आमतौर पर कई लोग जज और मजिस्ट्रेट के सही अंतर को नहीं जानते।

जज (न्यायाधीश) और मजिस्ट्रेट (दंडाधिकारी) दोनों में अंतर होता है।

जज (judge)

जज सार्वजनिक अधिकारी होता है। जिसका कर्तव्य है कि वह कानून का संचालन करे, विशेष रूप से परीक्षण और निर्णय का प्रतिपादन करे। जज शब्द की व्युत्पत्ति

फ़्रांसिस बेकन का कहना है

सुनवाई में एक न्यायाधीश के चार हिस्से हैं: सबूतों को निर्देशित करने के लिए; से मध्यम लंबाई, पुनरावृत्ति, या भाषण की अपूर्णता; पुनरावृत्ति करना, चयन करना और उस के भौतिक बिंदुओं को टटोलना, जो कहा गया है; और नियम या वाक्य देने के लिए।


एक व्यक्ति जो किसी के अंतिम परिणाम का फैसला करता है या ऐसा कुछ जिसे प्रश्न में कहा जाता है।

ड्राइडन का कहना है –

एक आदमी जो कानून का कोई जज नहीं है, वह कविता, या वाक्पटुता या किसी पेंटिंग की खूबियों का एक अच्छा न्यायाधीश हो सकता है।

जज को सिविल यानी व्यवहार मामले मिलते हैं। इन्हें उर्दू में दीवानी मामले भी कहा जाता है। ऐसे मामले जो अधिकार, अनुतोष या क्षतिपूर्ति से जुड़े होते हैं, वो सिविल मामले कहलाते हैं। इनका जिक्र सीपीसी 1908 के सेक्शन 9 में किया गया है। सिविल जज लोअर कोर्ट निचली अदालत में बैठते हैं।

See also  कुंभ में मुख्य स्नान का समय २०16

मजिस्ट्रेट (Magistrate)

एक न्यायिक अधिकारी, जो कानून को संचालित करने और लागू करने के लिए सीमित अधिकार रखता है। मजिस्ट्रेट की अदालत में नागरिक या आपराधिक मामलों या दोनों में अधिकार क्षेत्र हो सकता है। मजिस्ट्रेट शब्द की व्युत्पत्ति

blank

राज्य का एक उच्च अधिकारी या जिसे प्राचीन ग्रीस या रोम में एक नगर पालिका कहा जाता था। (ऐतिहासिक, विस्तार से) मध्ययुगीन या आधुनिक संस्थानों में एक तुलनीय अधिकारी।

See also  'Naagin 6' में दूसरी नागिन बनेंगी महक चहल, लुक का हुआ खुलासा

मजिस्ट्रेट को क्रिमिनल केस यानी दाण्डिक मामले मिलते हैं। इन्हें उर्दू में फौजदारी मामले भी कहा जाता है।

ऐसे मामले जिनमें अपराध के लिए प्रावधान है और जिनमें दंड की मांग की जाती है। वह दाण्डिक मामले कहलाते हैं।

ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट निचली अदालत के फर्स्ट क्लास या सेकंड क्लास भी बैठते हैं।

उपर्युक्त सभी तथ्यों को समझने के लिए एक उदाहरण देखिए –

मान लीजिए आपके घर पर किसी ने कब्जा कर लिया तो आप उसके खिलाफ सिविल केस लगाएंगे। घर खाली करवाने की मांग करेंगे। और कम्पनसेशन के लिए दावा करेंगे। ये मामले देखेंगे सिविल जज। अधिकार या अनुतोष की मांग की है तो इसकी सुनवाई जो कोई भी करेगा, उसे सिविल जज कहा जाएगा।

See also  कुत्ते का रात में रोना किस बात की ओर संकेत करता है?

वहीं जब आप कब्जा करने के लिए दंड देने की मांग करेंगे तो इसे क्रिमिनल कोर्ट में ले जाएंगे और इसकी सुनवाई मजिस्ट्रेट करेगा जिसे दंडाधिकारी कहा जाएगा।

Leave a Reply

अलग-अलग पोज़ में अवनीत कौर ने करवाया कातिलाना फोटोशूट टीवी की नागिन सुरभि ज्योति ने डीप नेक ब्लैक ड्रेस में बरपया कहर अनन्या पांडे की इन PHOTOS को देख दीवाने हुए नेटिजेंस उर्फी जावेद के बोल्ड Photoshoot ने फिर मचाया बवाल अनन्या पांडे को पिंक ड्रेस में देख गहराइयों में डूबे फैंस Rashmi Desai ने ट्रेडिशनल लुक की तस्वीरों से नहीं हटेगी किसी की नजर ‘Anupamaa’ ब्लू गाउन में, Rupali Ganguly Pics Farhan-Shibani Dandekar Wedding: शुरू हुई हल्दी सेरेमनी Berlin Film Festival: आलिया ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ स्टाइल में PICS अवनीत कौर प्रिंटेड ड्रेस में, बहुत खूबसूरत लग रही हैं Palak Tiwari ने OPEN ब्लेजर में कराया BOLD फोटोशूट साड़ी के साथ फ्लावर प्रिंटेड ब्लाउज़ में आलिया भट्ट
%d bloggers like this: