कुंभ में मुख्य स्नान का समय २०16

कुंभ के मुख्य स्नान…..
शाही स्नान-22 अप्रैल 2016, शुक्रवार, पूर्णिमा
कुंभ स्नान-03 मई 2016, मंगलवार
कुंभ स्नान-06 मई 2016, शुक्रवार
कुंभ स्नान-09 मई 2016, सोमवार
कुंभ स्नान-11 मई 2016, बुधवार
कुंभ स्नान-15 मई 2016, रविवार
कुंभ स्नान-17 मई 2016, मंगलवार
कुंभ स्नान-19 मई 2016, गुरुवार
कुंभ स्नान-20 मई 2016, शुक्रवार
शाही स्नान-21 मई 2016, शनिवार, पूर्णिमा
सिंहस्थ -2016
उज्जैन महत्तम्
शायद यह बहूत कम लोगो को पता होगा कि देवताओ ओर देत्यो ने मील कर जो सागर मंथन किया था ओर उस मे से जो सामग्री निकली थी उस का बंटवारा भी उज्जैन में ही किया गया था ओर जिस स्थान पर किया गया उसे रत्नसागर तीर्थ के नाम से जाना जाता है क्रमशः ये सामग्री निकली थी
1.विष 2. बहूत सा धन (रत्न मोती) 3.माता लक्ष्मी 4.धनुष 5.मणि 6.शंख 7.कामधेनु गाय
8.घोडा 9.हाथी 10.मदिरा
11.कल्प वृक्ष 12.अप्सराये
13 भगवान चंद्रमा .
14 भगवान धनवंतरि अपने हाथो मे अमृत के कलश को लेकर निकले
क्षीप्रे हर
स्वागतम्
सिंहस्थ -2016
उज्जैन महत्तम्
जब भगवान शीव कि तपस्या कामदेव ने भंग कि तब भगवान कि द्रष्टि मात्र से कामदेव भस्म हो गये तब उन कि पत्नी रती ने भगवान शिव से कामदेव को जीवीत करने कि प्रार्थना कि तब भगवान ने उन्हे क्षीप्रा स्नान ओर शिवलिंग के पूजा के लीये कहा तब रति देवी ने वेसा ही किया जीस से कि उन्हे कामदेव पुनः पती रूप मे मीले जीस स्थान पर रती ने प्रतीदिन क्षीप्रा मे स्नान कर जीन शिवलिंग का पूजन किया वह उज्जैन मे आज भी मनकामनेश्वर मंदिर से जाना जाता है
क्षीप्रे हर
पधारो म्हारा उज्जैन
स्वागतम्
सिंहस्थ -2016
उज्जैन महत्तम्
विश्व में सात सागर का अस्तित्व है
संभव नही है कि सामान्य व्यक्ति सातो सागर मे स्नान कर सके ईस लीये प्राचीन काल मे ऋषियो ने उज्जैन में ही सात सागरो कि स्थापना कि जो कि आज भी उज्जैन मे विध्यमान है
1.रूद्र सागर 2. विष्णु सागर
3. क्षीर सागर 4. पुरूषोत्तम सागर 5. गोवर्धन सागर 6. रत्नाकर सागर 7. पुष्कर सागर
जीन मे कि स्नान करने से विश्व के सातो सागरो मे स्नान करने कि फल कि प्राप्ति होती है
क्षीप्रे हर
पधारो म्हारा उज्जैन
स्वागतम्
सिंहस्थ -2016
उज्जैन महत्तम्
उज्जैन में आज भी राजतंत्र ही है
प्राचीन काल में कोई भी राजा जो उज्जैन का शासक हुआ करता था वह अपना महल उज्जैन कि सीमा के बाहर हि बनवाता था यदि कोई राजा उज्जैन में सो जाता तो वह मर जाता था क्यो कि एक राज्य मे दो राजा केसे संभव है यहा के राजा भगवान महाकाल माने जाते है ओर रानी माता हरसिद्धि (जो बावन शक्ति पीठ मे से एकहै ) यहा के सेनापति कालभैरव (प्रत्यक्ष रूप से मदिरा का पान करते है)
जब जब भगवान महाकाल पालकि मे सवार हो कर निकलते है तब तब उज्जैन के निवासी भगवान महाकाल का स्वागत उसी प्रकार करते है जेसे महाराजा का
क्षीप्रे हर
पधारो म्हारा उज्जैन
स्वागतम्
सिंहस्थ -2016
उज्जैन महत्तम्
माता पार्वती ने भगवान शिव को पति रूप मे पाने के लिए एक वट वृक्ष का रोपण कर उस के नीचे बेठ कर घोर तपस्या की जीस से कि भगवान शिव उन्हे पति रूप मे प्राप्त हूये जीस वृक्ष के नीचे तपस्या की थी उसे एक समय मुगल हमले मे काट दिया गया था पर वह एक हि रात्री मे पुनः हरा भरा हो गया तब मुगल सेनिको ने उसे फिर काट कर उस के ऊपर विशालकाय लोहे के तवे जडवा दिये पर पुनः एक हि रात्री मे वह वृक्ष तवो को फाड कर पुर्व स्वरूप मे आ गया तब मुगल सेना डर कर वहा से भाग खडि हूई वह वृक्ष उज्जैन में आज भी विध्यमान है जीसे सिद्धवट मंदिर से जाना जाता है
क्षीप्रे हर
पधारो म्हारा उज्जैन
स्वागतम्
सिंहस्थ -2016
उज्जैन महत्तम्
भगवान राम वनवास के दिनो मे उज्जैन में आये थे ओर उन्होंने भगवान गणेश कि स्थापना कि ओर राम जी ओर सीता जी ने मीलकर उन का पुजन किया जो आज भी उज्जैन में चिन्तामण गणेश के रूप मे जाने जाते है ईसी मंदिर परीसर मे एक कुंआ भी है जीसे लक्ष्मण जी ने माता सीता कि प्यास बुझाने के लिए एक ही बाण मे निर्मित किया था
क्षीप्रे हर

Leave a Reply

अलग-अलग पोज़ में अवनीत कौर ने करवाया कातिलाना फोटोशूट टीवी की नागिन सुरभि ज्योति ने डीप नेक ब्लैक ड्रेस में बरपया कहर अनन्या पांडे की इन PHOTOS को देख दीवाने हुए नेटिजेंस उर्फी जावेद के बोल्ड Photoshoot ने फिर मचाया बवाल अनन्या पांडे को पिंक ड्रेस में देख गहराइयों में डूबे फैंस Rashmi Desai ने ट्रेडिशनल लुक की तस्वीरों से नहीं हटेगी किसी की नजर ‘Anupamaa’ ब्लू गाउन में, Rupali Ganguly Pics Farhan-Shibani Dandekar Wedding: शुरू हुई हल्दी सेरेमनी Berlin Film Festival: आलिया ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ स्टाइल में PICS अवनीत कौर प्रिंटेड ड्रेस में, बहुत खूबसूरत लग रही हैं Palak Tiwari ने OPEN ब्लेजर में कराया BOLD फोटोशूट साड़ी के साथ फ्लावर प्रिंटेड ब्लाउज़ में आलिया भट्ट
%d bloggers like this: