वजूद | आरसी चौहान

वजूद | आरसी चौहान

कितना ही
कितना ही खारिज करो
साहित्य विशेषज्ञों –
लेकिन
याद करेंगे लोग मुझे
अरावली पहाड़ सा
घिसा हुआ।

See also  यायावर | लहब आसिफ अल जुंडी