वह गा रही है
अपने अंचल का गीत

गीत में गूँज रहे हैं :
स्पंदित पेड़
मिट्टी की महक
पानी की मिठास
वह गा रही है
मगनमन ऐसे
जैसे भेंटी हो
बहुत दिनों बाद
अपनी माँ से।

See also  चाँदनी थी तुम | जयकृष्ण राय तुषार