मैं अनुभवों को पैना कर रही हूँ
मैं दुर्गम रास्तों पे खाली पैर चल रही हूँ
चुभते हैं कुछ नियम काँटों से
मैं दरारों को पाटने की कोशिश कर रही हूँ

तुम्हारे हिस्से का सह रही हूँ
अपने हिस्से का नहीं कह रही
मैं तुम्हारी चाहरदीवारी में
तुम्हारे लिए ही रह रही हूँ

See also  सुंदर भारत

आपातकालीन स्थितियों में
मैं बाहर जाया करती हूँ
सहज ही अपने को भूल कर
तुम्हारे अहंकारों की
परवरिश कर रही हूँ

सोचती हूँ
जिस दर्प से थामा था हाथ मेरा
उसी दर्प से एक बार मेरी आँखों में देखकर
कह सकोगे …मैं तुम्हें रानी बनाकर रखूँगा…