आज जो सिक्का चमक रहा है
वह सिक्का
पता नहीं कल बाजार में चले भी या नहीं

यह भी जरुरी नहीं कि कल
लोग इसके लिए पसीना बहाएँ
अपना जीवन खर्च करें और
एक दिन इन्हीं सिक्कों की खातिर
खदान में मृत पाए जाएँ।

See also  आत्मकथा लिखने से पहले | प्रफुल्ल शिलेदार